एसटीएफ- बेरोज़गारों को नौकरी दिलाने के नाम पर ठगों का सरगना सहित 06 गिरफ्तार


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 5 नवंबर। दिनांकः 04-11-2020 को एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को बेरोजगार युवक/युवतियों को विभिन्न सरकारी विभागों में पद व विभाग के अनुसार रू0 01 लाख से 15 लाख तक लेकर  संविदा पर नौकरी दिलाने का झाॅसा देकर ठगी करने वाले गिरोह के सरगना सहित 06 अभियुक्तों को गिरफ्तार करने मे उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।
गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरण:-
1- सिद्धनाथ शाह पुत्र स्व0 चन्द्रिका प्रसाद निवासी ग्रा0 चैनपुर, पोस्ट शंकर पटखौली, थाना पटहेरवां, जनपद कुशीनगर। हाल पता सी-4114 से0 6 सपना कालोनी, राजाजीपुरम्, थाना तालकटोरा, जनपद लखनऊ।
2- धीरज कुमार मिश्रा पुत्र स्व0 विशेश्वर दयाल मिश्रा, निवासी मोहल्ला रामनगर चरखारी, थाना चरखारी, जनपद महोबा। हाल पता एस-2, बी-09 बसेरा अपार्टमेंट, सेक्टर 8, अवध बिहार योजना, थाना पीजीआई, जनपद लखनऊ।  
3- विकास प्रसाद उर्फ रोमी पुत्र स्व0 होली प्रसाद निवासी अहिरवां, थाना चकेरी जनपद कानपुर नगर। हालपता ई-1252 निकट रूपम चैराहा, राजाजीपुरम् थाना तालकटोरा, जनपद लखनऊ।
4- जितेन्द्र कुमार सिंह पुत्र नवीन सिंह निवासी ग्रा0 बन्जरिया, थाना तरकोलवा, जनपद देवरिया। हाल पता मकान न0 16 न्यू नन्दी बिहार कालोनी, मल्हौर रोड, थाना चिनहट, जनपद लखनऊ।
5- दूधनाथ कुशवाहा पुत्र घरभरन कुशवाहा निवासी ग्रा0 लाला गुरवलिया, थाना तुर्कपट्टी, जनपद कुशीनगर। हाल पता गायत्री कालोनी से0 12 कृष्णानगर, थाना कृष्णानगर, जनपद लखनऊ।  
6- राकेश कुमार त्रिपाठी पुत्र अशोक त्रिपाठी निवासी ग्रा0 खरिहानी, थाना तरवां, जनपद आजमगढ। हाल पता डी- 4/329 विनीत खण्ड जनपद लखनऊ। (डायरेक्टर बीएसएन इन्फोटेक कम्पनी)।
बरामदगी-
1. 01 अदद लैपटाप।
2. 09 अदद मोबाइल।
3. 05 अदद एटीएम कार्ड।
4. 01 अदद निर्वाचन कार्ड।
5. 02 अदद पैनकार्ड।
6. 45 अदद सीवी बेरोजगार युवक/युवतियों के
6. नकद रू 471460/(चार लाख एकहत्तर हजार चार सौ साठ)।
7. 01 अदद कार टाटा टियागो (यूपी-32, एलए-6002)।
8. 01 अदद कार टरेनो (यूपी-32, जीएफ-2552)।
गिरफ्तारी का स्थान व समयः-  
 दिनांकः  04.11.2020, स्थान- विपुलखण्ड लखनऊ, समयः  20ः05 बजे।
         एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को विगत काफी समय से विभिन्न सरकारी विभागों में संविदा पर नौकरी दिलाने का झाॅसा देकर ठगी करने वाले गिरोहों के सक्रिय होने की सचूनाएं प्राप्त हो रही थीं, जिनके विरूद्ध कार्यवाही हेतु श्री विशाल विक्रम सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक, एस0टी0एफ0, उ0प्र0 के पर्यवेक्षण मे एस0टी0एफ0 मुख्यालय स्थित साइबर टीम को अभिसूचना संकलन एवं कार्यवाही हेतु निर्देशित किया।
          इसी क्रम मे मुख्यालय स्थित टीम द्वारा अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी तथा अभिसूचना तन्त्र को सक्रिय किया गया। अभिसूचना संकलन के माध्यम से ज्ञात हुआ कि विशाल प्रजापति निवासी राजाजीपुरम्, लखनऊ द्वारा थाना गोमती नगर, जनपद लखनऊ मे मु0अ0स0 870/2020 धारा 406/420/467/468/504/506 भादवि पंजीकृत कराया गया कि बीएसएन इन्फोटेक कम्पनी विपुल खण्ड-2 के माध्यम से सिद्धनाथ शाह व उसके गैंग के सदस्यों द्वारा सचिवालय मे समीक्षा अधिकारी के पद पर संविदा पर नौकरी दिलवाने के लिए 25000/ रू एडवांस मे लेकर 15 लाख रूपया मे व मेरे मित्र अनुराग यादव को अयोध्या नगर निगम मे संविदा पर नौकरी दिलवाने के लिए 10000/रू एडवांस मे लेकर  50000/रू मे नौकरी दिलवाने का झांसा देकर ठगी की गयी है। उपरोक्त सूचना को अभिसूचना संकलन के माध्यम से विकसित करते हुए मुखबिर खास द्वारा मिली सूचना के आधार पर दिनांक 04/11/2020 को समय करीब 20ः05 बजे गैंग के सरगना सहित उपरोक्त अभियुक्तों को विपुलखण्ड जनपद लखनऊ से एसटीएफ व थाना गोमती नगर की संयुक्त टीम द्वारा गिरफ्तार किया गया, जिनसे उपरोक्त बरामदगी हुई।
       पूछताछ में उपरोक्त गिरफ्तार गैंग के सरगना सिद्धनाथ शाह ने बताया कि हम लोगों का एक संगठित गिरोह है। हम लोग बेरोजगार युवक/युवतियों को विभिन्न सरकारी विभागों मे संविदा पर पद के अनुसार 01 लाख रूपये से 15 लाख रूपये लेकर नौकरी दिलाने का झांसा देकर ठगी कर रहे है। इस काम मे बेरोजगार युवक/युवतियों को समझा-बुझाकर रूपया देने के लिए राजी करने का काम मेरे साथ रोमी करता है। इसके बाद धीरज कुमार मिश्रा, जितेन्द्र कुमार व दूधनाथ कुशवाहा के साथ मिलकर राकेश कुमार त्रिपाठी डायरेक्टर बीएसएन इन्फोटेक कम्पनी जो आउट सोर्सिग का काम करती है, से मीटिंग कराकर बेरोजगार युवक/युवतियों को विभिन्न सरकारी विभागों मे संविदा पर नौकरी दिलाने का विश्वास दिलाकर उनसे चतुर्थ श्रेणी के लिए रूपया पचास हजार से एक लाख, लिपिक संवर्ग/कम्प्युटर आपरेटर के लिए रूपया दो लाख से तीन लाख, सचिवालय मे समीक्षा अधिकारी के लिए रूपया पन्द्रह लाख मे बात करते है व टोकन मनी के रूप मे कुछ रूपया व उनके दस्तावेजों की एक प्रति लेकर उनको ॅींजेंचच - म्उंपस के माध्यम से एक आवेदन पत्र भेजकर भरवाते है। इसके बाद उनका एक फर्जी इंटरव्यू संतोष सिंह, संचालक, बस्ती सिक्योरिटी, राजीव पटेल संचालक गोरखा इन्फोटेक कम्पनी व राकेश कुमार त्रिपाठी डायरेक्टर बीएसएन इन्फोटेक कम्पनी में कराते हैं। इसके कुछ दिन बाद आवेदकों को कूटरचित नियुक्ति पत्र दे देते है। ठगी से प्राप्त रूपया हम लोग आपस मे मिलकर बांट लेते हैं। जब बेरोजगार युवक/युवती नौकरी ज्वाइन करने पंहुचते है तो उनको वहां ज्वाइनिंग नही मिलती है। इस कारण वो अपना रूपया वापस मांगते हैं तो हम लोग उनको कुछ दिन मे नौकरी मिलने की बात कह कर टालते रहते है। अगर कोई आवेदक बार बार रूपया वापस मांगता है तो हम लोग उनको डरा धमका कर भगा देते हैं।
            उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्तों को थाना गोमती नगर जनपद लखनऊ में पंजीकृत मु0अ0स0 870/2020 धारा 406/420/467/468/504/506 भादवि में दाखिल कर अग्रेतर विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।


Popular posts
प्रशासक ग्रेटर शारदा सहायक समादेश क्षेत्र विकास प्राधिकारी/परियोजना के मौजूदा नम्बर बदले गए 
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
राज्यमंत्री बलदेव सिंह ने मुख्य अभियंता शारदा सहायक व मुख्य अभियंता सज्जा के कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया
Image
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ज्योति पर्व ‘‘दीपावली’’ पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई दी 
Image
डीजीपी ने महिलाओं/बच्चियों के साथ घटित होने वाले अपराधों की रोकथाम के लिए अभियान ‘‘मिशन शक्ति‘‘ हेतु निर्देश जारी किये 
Image