कोरोना की प्रकृति को समझने के लिए अभी और अध्ययन एवं अनुसंधान की आवश्यकता - अवनीश अवस्थी


वेब वार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 26 अगस्त। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने आज यहां लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश में कल कोविड-19 के 1 लाख 44 हजार टेस्ट किए जाने पर संतोष व्यक्त करते हुए टेस्टिंग क्षमता को शीघ्र बढ़ाकर 1 लाख 50 हजार टेस्ट प्रतिदिन किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि कोरोना के संक्रमण को नियंत्रित करने में टेस्टिंग की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसलिए इस कार्य में वृद्धि के प्रयास निरन्तर जारी रखे जाएं। उन्होंने कहा है कि कोविड-19 के प्रभावी नियंत्रण के लिए कोरोना से दो कदम आगे की सोच रखनी होगी, क्योंकि यह एक महामारी है। इसकी प्रकृति को समझने के लिए अभी और अध्ययन एवं अनुसंधान की आवश्यकता है। इसके दृष्टिगत उन्होंने कोरोना से ठीक हुए मरीजों की मेडिकल ट्रीटमेंट विधि का गहन अध्ययन किए जाने पर बल देते हुए कहा कि इससे आगे की रणनीति तैयार करने में मदद मिलेगी।
      श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोरोना से निपटने के लिए राज्य सरकार द्वारा अपनायी गई रणनीति के परिणामस्वरूप देश और दुनिया की तुलना में प्रदेश में कोविड-19 से मृत्यु की दर काफी कम है। मृत्यु दर को न्यूनतम स्तर पर लाने के लिए हर सम्भव प्रयास करने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा है कि इसके लिए और कारगर रणनीति अपनायी जाए। उन्होंने कहा है कि सभी जिलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्सा अधिकारी अपने-अपने जनपदों में सर्विलांस, काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग, डोर-टू-डोर सर्वे एवं मेडिकल टेस्टिंग में वृद्धि करें। कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित करने में इन सभी की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेण्टर द्वारा होम आइसोलेशन में रह रहे संक्रमित मरीजों से नियमित संवाद रखते हुए रोगियों की स्वास्थ्य की जानकारी प्राप्त की जाए। कोविड अस्पतालों में मरीजों का पूरा ध्यान रखा जाए। उन्होंने निर्देश दिए है कि सभी कोविड चिकित्सालयों में रोगियों के उपचार के लिए समस्त चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध रहनी चाहिए।
       श्री अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि कोरोना वायरस से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए जनता को निरन्तर जागरूक किया जाए। टी0वी0, रेडियो, समाचार पत्रों, पब्लिक एड्रेस सिस्टम, पोस्टर-बैनर आदि के माध्यम से लोगों को जानकारी प्रदान की जाए। उन्होंने मास्क के अनिवार्य उपयोग तथा दो गज की दूरी बनाए रखने के सम्बन्ध में आमजन को विशेष रूप से जागरूक किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने औद्योगिक इकाइयों के संचालन में सोशल डिस्टेंसिंग तथा स्वास्थ्य विभाग के दिशा-निर्देशों का पूर्ण पालन कराए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि वर्ष 2020 की हाई स्कूल तथा इण्टरमीडिएट परीक्षाओं के मेधावी विद्यार्थियों को सम्मानित किए जाने का प्रस्तावित कार्यक्रम कोविड-19 के दृष्टिगत स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी प्रोटोकाॅल के अनुरूप आयोजित किया जाए।
      श्री अवस्थी ने बताया कि पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में अब तक धारा 188 के तहत 2,03,967 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज की गई। प्रदेश में अब तक 1,35,00,853 वाहनांे की सघन चेकिंग में 69,634 वाहन सीज किये गये। चेकिंग अभियान के दौरान 69,28,37,989 रूपए का शमन शुल्क वसूल किया गया। आवश्यक सेवाओं हेतु कुल 4,32,722 वाहनों के परमिट जारी किये गये हैं। उन्होंने बताया कि कालाबाजारी एवं जमाखोरी करने वाले 1111 लोगों के खिलाफ 825 एफआईआर दर्ज करते हुए 391 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। फेक न्यूज के अन्तर्गत अब तक 2354 मामलों में संज्ञान में लेते हुए कार्यवाही की गयी है। प्रदेश के 15,409 कन्टेनमेंट जोन के 1189 थानान्तर्गत 14,22,800 मकानों के 82,23,509 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन कन्टेनमेंट जोन में कोरोना पाॅजिटिव लोगों की संख्या 36,891 है। प्रदेश में हाॅटस्पाॅट वाले बस्तियों की अनुमानित जनसंख्या 87,48,434 के सापेक्ष 15,137 डोर स्टेप डिलिवरी मिल्क बूथ/मैन के द्वारा दूध वितरित किया गया है। डोर स्टेप डिलिवरी ‘फल, सब्जी आदि’ कुल 18,664 वाहन लगाये गये हैं। डोर स्टेप डिलिवरी वाले प्रोविजन स्टोर की संख्या 16,269 है। प्रोविजन स्टोर के माध्यम से डिलिवरी करने वालों की संख्या 49,908 है। हाॅट स्पाॅट क्षेत्रों में कुल 20 प्रचलित सामुदायिक किचन हैं। इन बस्तियों में 23,53,502 राशन कार्डो पर खाद्यान्न वितरण किया गया है। इसके अतिरिक्त सरकारी संस्थाओं/सामुदायिक किचन के माध्यम से 1,085 नागरिकों को लाभान्वित तथा धार्मिक/स्वैच्छिक संस्थाओं के माध्यम से 289 नागरिकों को लाभान्वित किया गया है। उन्होंने बताया कि निर्माण कार्यों से जुडे़ 17.13 लाख श्रमिकों को द्वितीय किश्त का भी भुगतान किया जा चुका है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के सम्बंध में राहत आयुक्त कार्यालय में राज्य स्तर पर स्थापित एकीकृत आपदा नियंत्रण केन्द्र के टोल फ्री हेल्पलाईन नं0 1070 पर प्राप्त 1,19,782 काॅल्स में से 1,19,332 का निस्तारण किया गया। श्री अवस्थी ने बताया कि कल मुख्यमंत्री ने गृह विभाग की समीक्षा की जिसके अन्तर्गत उन्होंने गैगस्टर एक्ट के अन्तर्गत सम्पत्ति कुर्की की कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये। सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गये है कि शस्त्र लाइसेंस यदि अपराधी किस्म के व्यक्तियों को दिये गये है, तो उसे जब्त करने की कार्यवाही की जाये तथा ऐसे लोगों को कैसे शस्त्र लाइसेंस दिये गये इसकी भी जांच करायी जाए।
      अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में कोविड-19 टेस्टिंग का कार्य तेजी से किया जा रहा है। प्रदेश में कल एक दिन में अब तक का सर्वाधिक 1,44,802 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक 49,41,679 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में विगत 24 घंटंे में कोरोना के 5898 नये मामले आये है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 51317 कोरोना के एक्टिव मामले हैं, जिसमें 25,279 मरीज होम आइसोलेशन, 2341 लोग प्राइवेट हास्पिटल में तथा 250 मरीज सेमी पेड फैसिलिटी में तथा इसके अतिरिक्त शेष कोरोना संक्रमित एल-1, एल-2, एल-3 के कोरोना अस्पतालों में है। प्रदेश में अब तक 1,48,562 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं।
      श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में ई-संजीवनी पोर्टल का लगातार प्रयोग किया जा रहा है। कल 2145 लोगों ने ई-संजीवनी पोर्टल का प्रयोग करते हुए डाॅक्टरों से सलाह ली। अब तक 44,097 लोगों ने ई-संजीवनी पोर्टल पर चिकित्सीय परामर्श प्राप्त किया। उन्होने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस की कार्यवाही के अन्तर्गत 2,82,756 सर्विलांस टीम द्वारा 1,93,20,725 घरों के 9,71,70,306 लोगों का सर्वेक्षण किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान की जा रही है और कोविड के साथ-साथ नाॅन कोविड केयर पर भी ध्यान दिया जा रहा है। उन्हांेने बताया कि पिछले वर्ष 01 जून से 25 अगस्त, 2019 तक 50,118 मेजर सर्जरी की गयी है। इसी अवधि में इस वर्ष 01 जून से 25 अगस्त तक 40,217 मेजर सर्जरी  की गयी है। उन्होंने बताया कि गत 24 अगस्त को प्रदेश में कुल 5761 डिलीवरी विभिन्न सरकारी चिकित्सालयों में कराई गई है। जिनमें से 5588 प्रसूताओं की नार्मल डिलीवरी व 173 प्रसूताओं की सिजेरियन डिलीवरी कराई गई। उन्होंने बताया कि हवाई यात्रा से आने वालों के लिए नया प्रोटोकाॅल जारी किया गया है। प्रदेश में कुल 62,296 कोविड हेल्प डेस्क स्थापित है।- संजय कुमार/ अजय द्विवेदी


Popular posts
प्रशासक ग्रेटर शारदा सहायक समादेश क्षेत्र विकास प्राधिकारी/परियोजना के मौजूदा नम्बर बदले गए 
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
राज्यमंत्री बलदेव सिंह ने मुख्य अभियंता शारदा सहायक व मुख्य अभियंता सज्जा के कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया
Image
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ज्योति पर्व ‘‘दीपावली’’ पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई दी 
Image
डीजीपी ने महिलाओं/बच्चियों के साथ घटित होने वाले अपराधों की रोकथाम के लिए अभियान ‘‘मिशन शक्ति‘‘ हेतु निर्देश जारी किये 
Image