पूर्वदशम् छात्रवृत्ति योजनान्तर्गत 2020-21 में इस योजना हेतु रू0 17500 लाख का बजट

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 3 अक्टूबर। वर्तमान में पिछड़े वर्गों के विकास एवं उनके शैक्षिक स्तर को ऊंचा उठाने के उद्देश्य से पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा पूर्वदशम छात्रवृत्ति योजना आनलाइन संचालित की जा रही है, जिसके अन्तर्गत उत्तर प्रदेश में स्थित समस्त राजकीय विद्यालय, राजकीय सहायता प्राप्त एवं मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं में अध्ययनरत अन्य पिछड़े वर्ग के पात्र छात्र/छात्राओं को प्रतिवर्ष छात्रवृत्ति का लाभ प्रदान करते हुये, उनके शैक्षिक स्तर को निरन्तर ऊंचा उठाने का प्रयास पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा किया जा रहा है।
     पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्वदशम् छात्रवृत्ति योजनान्तर्गत वित्तीय वर्ष 2020-21 में इस योजना हेतु रू0 17500 लाख का बजट प्राविधान है। योजनान्तर्गत वर्ष 2020-21 में कक्षा 9-10 के छात्रों से आनलाइन आवेदन से लेकर छात्रवृत्ति वितरण तक के लिए समय-सारिणी निर्गत कर दी गयी है। छात्रों से 24 जुलाई, 2020 से 12 अक्टूबर, 2020 तक के मध्य आनलाइन आवेदन कराये जाने की तिथि निर्धारित की गयी है। छात्रवृत्ति का वितरण अन्तिम रूप से 05 जनवरी, 2021 तक कराया जाना निर्धारित है।
       वित्तीय वर्ष 2019-20 में पूर्वदशम् छात्रवृत्ति योजनान्तर्गत उपलब्ध बजट रू0 17500 लाख से कक्षा 9-10 के 08 लाख 33 हजार 622 अन्य पिछड़े वर्ग के छात्र/छात्राओं को लाभान्वित किया जा चुका है।
उत्तर प्रदेश में अध्ययनरत् एवं उत्तर प्रदेश के मूल निवासी, छात्र के माता-पिता/अभिभावक की वार्षिक आय रू. 2 लाख तक तथा राजकीय विद्यालय, राजकीय सहायता प्राप्त एवं मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं में अध्ययनरत् छात्र/छात्रायें इस योजना के लिए आवेदन कर सकते है। छात्र को छात्रवृत्ति प्रबन्धन प्रणाली की वेबसाइट ीजजचरूध्ध्ेबीवसंतेीपचण्नचण्हवअण्पद  पर निर्धारित समयान्तर्गत आनलाइन आवेदन कर सकते है। इस योजना के अन्तर्गत रू0 150/- प्रति माह, अधिकतम् 10 माह हेतु एवं वार्षिक तदर्थ अनुदान रू0 750/- एकमुश्त, अधिकतम् रू0 2250/- वार्षिक दिया जाता है।
यह योजना केन्द्र सरकार व राज्य सरकार द्वारा 50-50 प्रतिशत वित्त पोषित है। योजना फण्ड लिमिटेड होने के कारण विगत वर्षो की देनदारियां देय नहीं होती हैं। छात्र द्वारा भरे गये आनलाइन आवेदन के परीक्षणोपरान्त संदेहास्पद होने की स्थिति में छात्र को संदेहास्पद बिन्दु पर निराकरण निर्धारित समयान्तर्गत आनलाइन करते हुए वांछित अभिलेख समय से शिक्षण संस्थान में जमा करना होता है। फिर शिक्षण संस्थान द्वारा संशोधित आवेदन को आनलाइन अग्रसारित करते हुए वांछित अभिलेख सम्बन्धित जनपद के जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी के कार्यालय में जमा किया जाना होता है। - धर्मवीर खरे


Popular posts
राज्यमंत्री बलदेव सिंह ने मुख्य अभियंता शारदा सहायक व मुख्य अभियंता सज्जा के कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया
Image
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ज्योति पर्व ‘‘दीपावली’’ पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई दी 
Image
प्रशासक ग्रेटर शारदा सहायक समादेश क्षेत्र विकास प्राधिकारी/परियोजना के मौजूदा नम्बर बदले गए 
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
डीजीपी ने महिलाओं/बच्चियों के साथ घटित होने वाले अपराधों की रोकथाम के लिए अभियान ‘‘मिशन शक्ति‘‘ हेतु निर्देश जारी किये 
Image