मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए डोर-टू-डोर सर्वे संचालित के निर्देश दिए


वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/अजय कुमार वर्मा 
लखनऊ 21 अगस्त। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए डोर-टू-डोर सर्वे कार्य को प्रभावी ढंग से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इन्फ्रारेड थर्मामीटर तथा पल्स आॅक्सीमीटर के माध्यम से लोगों की मेडिकल स्क्रीनिंग की जाए। संक्रमण की दृष्टि से संदिग्ध लक्षण वाले लोगों की जांच करायी जाए। जांच में संक्रमण की पुष्टि होने पर इनके लिए उपचार का प्रबन्ध किया जाए। उन्होंने इस कार्यवाही की नियमित एवं गहन माॅनीटरिंग करने के निर्देश भी दिए हैं।  
     मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक बैठक में कोविड-19 के नियंत्रण हेतु की जा रही कार्यवाही की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन में रहने वाले कोविड संक्रमित मरीजों से नियमित संवाद रखा जाए। इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर द्वारा प्रतिदिन ऐसे मरीजों से सुबह एवं शाम सम्पर्क करते हुए उनका स्वास्थ्य सम्बन्धी फीडबैक प्राप्त किया जाए। उन्होंने इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कण्ट्रोल सेण्टर के विभिन्न कार्यों के सुचारू निर्वहन के लिए दायित्व निर्धारित करने के निर्देश भी दिए।
     मुख्यमंत्री ने जनपद लखनऊ तथा कानपुर नगर पर विशेष ध्यान देने के निर्देश देते हुए कहा कि इन जनपदों में चिकित्सा व्यवस्था को सुदृढ़ किया जाए। उन्होंने टेस्टिंग क्षमता में लगातार वृद्धि करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग लैब्स को पूरी क्षमता से संचालित किया जाए। इसके लिए आवश्यक मैनपावर सहित सभी मेडिकल उपकरणों तथा टेस्टिंग किट्स की पर्याप्त व्यवस्था की जाए। उन्होंने जनपदों की टेस्टिंग लैब्स के लिए अतिरिक्त मैनपावर की आवश्यकता का आकलन करने के निर्देश देते हुए कहा कि इस कार्य की माॅनीटरिंग मुख्यमंत्री कार्यालय तथा मुख्य सचिव कार्यालय द्वारा की जाए।
        मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त बनाए रखा जाए। कोविड अस्पतालों में अनुभवी चिकित्सक तैनात किए जाएं। एनीस्थीसिया के विशेषज्ञ डाॅक्टरों की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि वरिष्ठ चिकित्सक नियमित राउण्ड लें। कोविड चिकित्सालयों में आवश्यकतानुसार बेड्स की संख्या बढ़ायी जाए। उन्होंने कोरोना संक्रमण के नियंत्रण में सर्विलांस कार्य की महत्वपूर्ण भूमिका पर बल देते हुए निगरानी समितियों को सक्रिय करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि काॅन्टैक्ट टेªसिंग का कार्य अत्यन्त सुव्यवस्थित ढंग से संचालित किया जाए।
     मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार किसानों को खाद सहित समस्त कृषि सामग्री सुगमतापूर्वक उपलब्ध कराने के लिए कृत संकल्पित है। इस सम्बन्ध में प्रदेश सरकार द्वारा अनेक कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि खाद की कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि किसानों को यूरिया हर हाल में तय रेट पर उपलब्ध हो। उन्होंने जिलाधिकारियों को इस कार्य की नियमित माॅनीटरिंग करने के निर्देश भी दिए।
     इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, मुख्य सचिव आर0के0 तिवारी, कृषि उत्पादन आयुक्त आलोक सिन्हा, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं गृह अवनीश कुमार अवस्थी, पुलिस महानिदेशक हितेश चन्द्र अवस्थी, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस0पी0 गोयल, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डाॅ0 रजनीश दुबे, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य आलोक कुमार, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।


Popular posts
प्रियंका ने वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा ग्राम विकास अधिकारी और दारोगा भर्ती के अभ्यर्थियों से बातचीत की
Image
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
गन्ना किसान फोन पर ही अपनी शिकायत दर्ज कराकर उसका समाधान पा सकेंगे - आयुक्त, संजय आर0 भूसरेड्डी
शारदीय नवरात्र पर नारी सुरक्षा एवं स्वावलम्बन हेतु विविध कार्यक्रमों का आयोजन प्रस्तावित - डाॅ0 दिनेश शर्मा
तालेत्तुताई सोलर प्रोजेक्ट फाइव प्रा0 लि0 को ग्राम खेड़ा एवं शहजादनगर तहसील बिल्सी, जनपद बदायूँ में 12.50 एकड़ से अधिक भूमि क्रय