स्पीड लिमिट डिवाइस लगने से सड़क हादसों में आयेगी कमी
लखनऊ: भारतवर्ष में यह माना जा रहा है कि जितना लोग किसी एक बीमारी से नहीं मरते, उससे कहीं ज्यादा लोग सड़क दुर्घटनाओं में असमय मर जाते हैं। इन सड़क दुर्घटनाओं के पीछे कई कारण होते हैं। बिना लाइसेंस के नई उम्र के नौजवानों द्वारा तेजी से वाहन चलाने, वाहन को निर्धारित गति से अधिक गति पर चलाना, चार पहिया वाहन बिना बेल्ट लगाये चलाना, दोपहिया वाहन बिना हेलमेट के चलाना, यातायात नियमों के संकेतको का ध्यान न देना,  चैराहों एवं सड़कों पर गलत दिशा एवं गति सीमा से अधिक गति में चलाना, नशीले पदार्थों का प्रयोग कर वाहन चलाना, मोबाइल पर बात करना, वाहन चलाते समय वार्तालाप करने, लापरवाही व असावधानी से वाहन चलाना, वाहनों के कलपुर्जों को सही न रखना आदि सड़क दुर्घटनाओं के कई कारण होते हैं। उ0प्र0 के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए भारत सरकार के केन्द्रीय मोटरयान नियमावली को प्रदेश में गम्भीरतापूर्वक लागू कराते हुए सुरक्षात्मक उपाय किये हैं। प्रदेश में सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए हर चालक को बेल्ट/हेलमेट पहने, वाहनों को चलाते समय ड्राइविंग नियमों का पालन कराने के लिए लगातर हर चैराहों, सड़कों पर चेकिंग की जा रही है। वाहनों की चेकिंग अभियान का परिणाम है कि हर दोपहिया/चार पहिया वाहन चलाने वाला चालक यातायात नियमों का पालन करने लगा है। प्रदेश में वाहनों के चेकिंग अभियान की कड़ाई और जुर्माने/चालान के डर से वाहन स्वामियों, चालकों में जागरूकता आई है, लोग यातायात नियमों, मोटर व्हीकल एक्ट के प्रावधानों को अपनाते हुए सुरक्षात्मक यात्रा करने में सुकून महसूस कर रहे हैं। प्रदेश सरकार के परिवहन विभाग ने केन्द्रीय मोटरयान अधिनियम में दिये गये प्राविधान के तहत समस्त व्यावसायिक वाहनों में गति नियंत्रक उपकरण (स्पीड लिमिट डिवाइस) लगाने की नीति लागू की है। यह गति नियंत्रक उपकरण वाहन निर्माता कम्पनी या डीलर के स्तर पर वाहनों में लगाया जा रहा है। इसके लिए एनआईसी द्वारा विकसित स्पीड लिमिट डिवाइस पोर्टल पर विनिर्माताओं, डीलरों तथा पंजीयन अधिकारी का यूजर रजिस्ट्रेशन करते हुए डिवाइस लगाई जाती है। इस उपकरण के लग जाने से ड्राइवर अपनी मनमानी नहीं कर सकेंगे और वाहन को नियंत्रित गति से ही चलायेंगे। सड़क हादसों को रोकने के लिए सरकार ने रोडवेज की बसों में ड्राइवरों को नींद से जगाने के लिए डिवाइस लगाने का काम भी शुरू कर दिया है। इससे रोडवेज की बसों में रात्रि की यात्रा सुरक्षित होगी। यह डिवाइस चालक को नींद आने पर अलार्म बजाकर जगायेगी, साथ ही यात्रियों को  भी यात्रा करने में सुरक्षा महसूस होगी। प्रदेश सरकार सड़कों पर वाहनों से होने वाली दुर्घटनाओं को रोकने के हर तरह के उपाय करते हुए लोगों में जागरूकता ला रही है। सुरक्षात्मक उपायों से सड़क हादसों में कमी भी आ रही है।

Popular posts
प्रियंका ने वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा ग्राम विकास अधिकारी और दारोगा भर्ती के अभ्यर्थियों से बातचीत की
Image
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
गन्ना किसान फोन पर ही अपनी शिकायत दर्ज कराकर उसका समाधान पा सकेंगे - आयुक्त, संजय आर0 भूसरेड्डी
शारदीय नवरात्र पर नारी सुरक्षा एवं स्वावलम्बन हेतु विविध कार्यक्रमों का आयोजन प्रस्तावित - डाॅ0 दिनेश शर्मा
तालेत्तुताई सोलर प्रोजेक्ट फाइव प्रा0 लि0 को ग्राम खेड़ा एवं शहजादनगर तहसील बिल्सी, जनपद बदायूँ में 12.50 एकड़ से अधिक भूमि क्रय