सीतापुर जनपद के मिश्रिख विकासखंड में “साथिया केंद्र” को किया गया ई-लाँच -श्री जय प्रताप सिंह
लखनऊ: किशोर/किशोरियों की स्वास्थ्यगत समस्याओं को सुचारपूर्वक निदान किए जाने की दिशा में प्रथम चरण में प्रदेश के 344 एडोलसेंट फ्रेंडली हेल्थ क्लीनिकों का पुनरुद्धार स्वास्थ्य विभाग और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तरप्रदेश द्वारा किया जा रहा है। आज होटल हिल्टन गार्डेन इन, विभूति खंड, गोमती नगर, लखनऊ में प्रदेश सरकार  चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री जय प्रताप सिंह ने राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत संचालित प्रदेश के 57 जनपदों में चिन्हित स्वास्थ्य इकाइयों में से प्रथम माडल एडोलसेंट फ्रेंडली हेल्थ क्लीनिक सीतापुर जनपद के मिश्रिख विकासखंड में  “साथिया केंद्र” का ई-लाँच किया। इस केंद्र को प्रदेश सरकार द्वारा पापुलेशन फाउंडेशन आफ इंडिया और चिल्डरेंस इन्वेस्टमेंट फंड फाउंडेशन के सहयोग से विकसित किया गया है। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री श्री जय प्रताप सिंह ने अपने उद्बोधन में कहा कि आज भारत की जनसंख्या का सबसे बड़ा भाग युवा और किशोर है। जनगणना 2011 के अनुसार प्रत्येक पाँचवा व्यक्ति किशोर वय में है। उत्तर प्रदेश की आबादी का चैबीस प्रतिशत भाग 10 से 19 वर्ष के आयु वर्ग के किशोर/किशोरियों का है। किशोरों का यह बड़ा जनसांख्यिकीय भाग राज्य के लिए आर्थिक विकास में तेजी लाने और गरीबी को कम करने की दिशा में एक अभूतपूर्व अवसर साबित हो सकता है। किशोरों की क्षमता संवर्धन और सक्षम बनाने के लिए, शिक्षा, स्वास्थ्य, विकास और अन्य क्षेत्रों में पर्याप्त निवेश किया जाना चाहिए। आबादी के इस क्षेत्र में निवेश करना सबसे अच्छा तरीका है - इसका जनसांख्यिकीय लाभांश। हालांकि इसे प्राप्त करने के लिए राज्य को यह सुनिश्चित करना होगा कि उसके किशोरों में एक जीवंत, रचनात्मक शक्ति बन जाए जिससे वो टिकाऊ और समावेशी विकास में योगदान दे सके। किशोरों में निवेश का यूपी के और भारत के स्वास्थ्य लक्ष्यों पर तत्काल, प्रत्यक्ष और सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, उत्तरप्रदेश द्वारा स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के सहयोग हेतु जनवरी 2014 में शुरू किए गए राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यकम (आरकेएसके) की रणनीति किशोरों के लिए एक प्रभावी, उचित, स्वीकार्य और सुलभ सेवा पैकेज तैयार करने, किशोर स्वास्थ्य और विकासात्मक जरूरतों को पूरा करने की है। इस परियोजना के बारे में देवेश चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव, चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण ने कहा कि आरकेएसके के तहत किशोर स्वास्थ्य (एएच) की रणनीति के तहत 10-14 साल और 15-19 साल के शहरी और ग्रामीणय स्कूल में और स्कूल से बाहरय विवाहित और अविवाहित और कमजोर और कम सेवा वाले समस्त किशोरध्किशोरी वर्ग को अपनी स्वास्थ्य सेवाओं की आपूर्ति करना है। आरकेएसके के तहत छह रणनीतिक प्राथमिकता वाले क्षेत्र पोषण, यौन और प्रजनन स्वास्थ्य (एसआरएच), गैर-संचारी रोग (एनसीडी), पदार्थ का दुरुपयोग, चोट और हिंसा (लिंग आधारित हिंसा सहित) और मानसिक स्वास्थ्य हैं। आरकेएसके ने किशोरों तक पहुंचने और उनकी विभिन्न आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए समुदाय और सुविधा आधारित हस्तक्षेप की परिकल्पना की है। सरकार द्वारा समुदाय आधारित सेवाओं में किशोर स्वास्थ्य दिवस, साप्ताहिक आयरन और फोलिक एसिड अनुपूरक कार्यक्रम और मासिक धर्म स्वच्छता योजना शामिल हैं। क्लिनिक आधारित सेवाएं ब्लॉक और जिला स्तरों पर सरकारी अस्पतालों के भीतर स्थित किशोर अनुकूल स्वास्थ्य क्लीनिक के माध्यम से प्रदान की जाती हैं। किशोरों, ग्रास रूट लेवल सर्विस प्रोवाइडर्स और अन्य प्रमुख सरकारी, गैर सरकारी स्टेकहोल्डर्स से जुड़े एक व्यापक फील्ड एक्सरसाइज के परिणामों के आधार पर, यूपी भर के ।थ्भ्ब् को अब साथिया केंद्र साथिया का नाम दिया जा रहा है, जिनमें लगभग 71,000 पियर एजूकेटर (साथिया) हैं। 25 जिलों के इन पियर एजूकेटरों में वे सभी किशोर लड़के और लड़कियां शामिल हैं, जिन्होंने यौन प्रजनन स्वास्थ्य, मादक द्रव्यों के सेवन, पोषण, मानसिक स्वास्थ्य, लिंग आधारित हिंसा और गैर-संचारी रोगों से संबंधित मुद्दों पर अपने दोस्तों और साथियों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए स्वेच्छा से काम किया है। डा० पूनम मतरेजा, कार्यकारी निदेशक, पी॰एफ॰आई॰ ने कहा कि मिश्रिख  ब्लॉक, सीतापुर जिले में ।थ्भ्ब् को एक मॉडल ष्साथिया केंद्र'' में पुनर्निर्मित और रि-ब्रांडेड किया गया है, जहां किशोर स्वास्थ्य संबंधी सूचना, परामर्श और सेवाओं को एक हंसमुख, जन्मजात, सुरक्षित और गैर-न्यायिक वातावरण में उपयोग कर सकते हैं। सीतापुर जिले में राज्य सरकार और जनसंख्या फाउंडेशन ऑफ इंडिया द्वारा जारी हस्तक्षेप, त्ज्ञैज्ञ कार्यक्रम को मजबूत करने और सीतापुर से राज्य भर के अन्य जिलों में त्ज्ञैज्ञ के क्रियान्वयन को उत्प्रेरित करने के लिए जमीनी स्तर की सीख का उपयोग करने के लिए है। सीतापुर जिले में लगभग आधा मिलियन किशोर रहते हैं। जबकि भारत में हर 10 किशोर माताओं में से एक यूपी से है, सीतापुर सबसे अधिक किशोर गर्भावस्था के साथ यूपी के शीर्ष पांच जिलों में शामिल है। इस जिले में एक तिहाई महिलाओं की शादी 18 साल से कम उम्र में होती है। अप्रैल से सितंबर 2019 के बीच मैट्रिक्स ऑफ चेंज नामक एक हस्तक्षेप के माध्यम से नौ महीनों के भीतर, सीतापुर में सहयोग से इस जिले में किशोरों की आउटरीच और सेवाओं के उत्थान में उल्लेखनीय सुधार देखा गया है। स्वास्थ्य एवं परिवार कलयाण मंत्री ने वेब कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इस केंद्र का उद्घाटन किया और उद्घाटन में राज्य और जिला प्रशासन, विकास साझेदारों, कॉर्पोरेट प्रतिनिधियों और किशोरों के साथ-साथ वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए, जिनकी इस कार्यक्रम में महत्वपूर्ण हिस्सेदारी है। कार्यक्रम में धन्यवाद प्रस्ताव डा०  उमाकांत, महानिदेशक, परिवार कल्याण द्वारा किया गया।  कार्यक्रम में मिशन निदेशक श्री पंकज कुमार व अन्य अधिकारीगण उपस्थित थे। 

Popular posts
प्रियंका ने वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा ग्राम विकास अधिकारी और दारोगा भर्ती के अभ्यर्थियों से बातचीत की
Image
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
गन्ना किसान फोन पर ही अपनी शिकायत दर्ज कराकर उसका समाधान पा सकेंगे - आयुक्त, संजय आर0 भूसरेड्डी
शारदीय नवरात्र पर नारी सुरक्षा एवं स्वावलम्बन हेतु विविध कार्यक्रमों का आयोजन प्रस्तावित - डाॅ0 दिनेश शर्मा
तालेत्तुताई सोलर प्रोजेक्ट फाइव प्रा0 लि0 को ग्राम खेड़ा एवं शहजादनगर तहसील बिल्सी, जनपद बदायूँ में 12.50 एकड़ से अधिक भूमि क्रय