डा. राजशेखर ने रैंकिंग में सुधार हेतु परिवहन निगम अधिकारियों को किया प्रोत्साहित
लखनऊः उत्तर प्रदेश परिवहन निगम में प्रतिस्पर्धा के वातावरण के सृजन, अधिकारियों के ए0सी0आर0, स्थान्तरण आदि के सम्बन्ध में निर्णय हेतु प्रथम बार ग्रेडिंग सिस्टम तैयार किया गया है, जिसमें क्षेत्रों एवं डिपों के परफॉरमेन्स मूल्यांकन के लिए मानक निर्धारित किये गये है, जिनके आधार पर ग्रेडिंग/रैकिंग की जानी है। व्यवस्था लागू होने के उपरान्त से माह नवम्बर, 2019 की प्रतिफलों एवं मूल्यांकन के अन्य बिन्दुओं पर आधारित रैकिंग जारी की गयी है।

ग्रेडिंग सिस्टम में रैकिंग दिये जाने हेतु निर्धारित किये गये मानक एवं मूल्यांकन के अंक इस प्रकार है। बस उपयोगिता-अधिकतम 15 अंक, लोडफैक्टर-अधिकतम 15 अंक, उपलब्ध बसों के सापेक्ष संचालित बसे-अधिकतम 10 अंक, लाभ-हानि प्रतिदिन/प्रतिबस-अधिकतम 10 अंक, क्रू उत्पादकता-अधिकतम 05 अंक, ड्यिूटी सॉफ्टवेयर के माध्यम से समयबद्धता, चालक/परिचालक द्वारा वर्दी में कार्य हेतु उपलब्ध होना-अधिकतम 05 अंक, ईंधन औसत-अधिकतम 05 अंक, शिकायतों (ट्््विटर/हेल्पलाईन/वाट्सअप/ई-मेल/आई.जी.आर.एस) का निस्तारण-अधिकतम 05 अंक, सुरक्षित संचालन 13 बिन्दु चेकिंग रिपोर्ट-अधिकतम 05 अंक,  बस फिटनेस 31 बिन्दु जॉच-अधिकतम 05 अंक एवं नोडल अधिकारी द्वारा (1) बस स्टेशन पर स्थापित जनसुविधाएं यथा शौचालय, पीने का पानी, पूछतॉछ काउन्टर, आवागमन की धोषणा, टाईम टेबिल/सूचनापट की उपलब्धता, बस स्टेशन की साफ-सफाई, (2) बसों की सफाई एवं भौतिक स्थिति, (3) चालक/परिचालक विश्राम कक्ष तथा उक्त में उपलब्ध सुविधाओं  के सम्बन्ध में प्रति यूनिट अधिकतम 05 अंक तक प्रदान किये जा सकते है तथा निरीक्षण में निरीक्षणकर्ता अधिकारी द्वारा क्षेत्र के सम्पूर्ण प्रदर्शन पर अधिकतम 05 अंक दिये जा सकेंगे। नोडल अधिकारियों द्वारा स्थलीय भ्रमण के दौरान डेटा तथा फोटो भी प्रदान किये गये अंको के प्रमाण में अपनी आख्या के साथ उपलब्ध कराये जाने होंगे।  ग्रेडिंग प्रणाली में छोटी दुर्घटनाओं हेतु 01 अंक, बड़ी दुर्घटनाओं हेतु 02 अंक प्रति दुर्घटना एवं प्रत्येक घायल हेतु 01 अंक और इसी प्रकार गम्भीर दुर्घटनाओं हेतु 03 अंक प्रति दुर्घटना एवं 01 अंक प्रति घायल/हताहत का प्रतिकूल अंकन की व्यवस्था की गयी है। 

डा. राजशेखर ने बताया कि माह नवम्बर, 2019 के संचालन प्रतिफलों एवं अन्य मूल्यांकन बिन्दुओं के आधार पर क्षेत्रों की रैकिंग जारी की गयी। उच्चतम रैकिंग में अलीगढ़ क्षेत्र प्रथम स्थान पर, गाजियाबाद एवं सहारनपुर क्षेत्र क्रमशः द्धितीय एवं तृतीय स्थान पर है तथा न्यूनतम रैक में क्रमशः चित्रकूट, अयोध्या एवं प्रयागराज क्षेत्र रहे।

प्रबन्ध निदेशक, डा. राज शेखर द्वारा वीडियों कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से क्षेत्रों को उनकी रैकिंग की जानकारी देते हुए आने वाले समय में रैकिंग में सुधार लाने के लिए अधिकारियों को प्रोत्साहित किया। अधिकारियों द्वारा इस पहल भूरी-भूरी प्रशंसा करते हुए आगामी माहों में अपने क्षेत्र का प्रदर्शन बेहतर कर रैकिंग में सुधार का आश्वासन निगम प्रबन्ध को दिया गया।

Popular posts
प्रियंका ने वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा ग्राम विकास अधिकारी और दारोगा भर्ती के अभ्यर्थियों से बातचीत की
Image
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
गन्ना किसान फोन पर ही अपनी शिकायत दर्ज कराकर उसका समाधान पा सकेंगे - आयुक्त, संजय आर0 भूसरेड्डी
शारदीय नवरात्र पर नारी सुरक्षा एवं स्वावलम्बन हेतु विविध कार्यक्रमों का आयोजन प्रस्तावित - डाॅ0 दिनेश शर्मा
तालेत्तुताई सोलर प्रोजेक्ट फाइव प्रा0 लि0 को ग्राम खेड़ा एवं शहजादनगर तहसील बिल्सी, जनपद बदायूँ में 12.50 एकड़ से अधिक भूमि क्रय