मजीठिया वेजबोर्ड की सेवा-शर्तो एवं सिफारिशों को लागू करने में कोताही बदर्शत नहीं - स्वामी प्रसाद मौर्य

लखनऊ 16 सितम्बर। प्रदेश के श्रम एवं सेवायोजन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने समस्त अपर व उपश्रमायुक्त को निर्देशित किया है कि पत्रकारों व गैर पत्रकारों के औद्योगिक विवादों एवं क्लेम वादों का निस्तारण माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों के क्रम में मजीठिया वेजबोर्ड की सेवा-शर्तो एवं सिफारिशों के आधार पर तत्काल किया जाये। इसमें किसी प्रकार की कोताही बदर्शत नहीं कि जायेगी। उन्होंने कहा कि इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट तथा श्रम आयुक्त द्वारा पारित आदेशों का पालन भी सुनिश्चित कराया जाय। उन्होंने कहा कि जहां भी आवश्यक हो एजेंन्सिओं को वसूली प्रमाण पत्र जारी किया जाये तथा क्लेम से सबंधित विवाद श्रम न्यायालय को संदर्भित किया जाये। उन्होंने सभी समाचार एजेन्सियों को इम्प्लायी रजिस्टर रखने के भी निर्देश दिये।
श्रममंत्री मौर्य आज बापू भवन सचिवालय में पत्रकारों एवं गैर पत्रकारों के वेज निर्धारण के लिए गठित भजीठिया वेजबोर्ड की सिफारिशों को लागू करने तथा विचार-विमर्श के लिए गठित त्रिपक्षीय समिति की बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सभी समाचार एजेंन्सियों और सेवायोजित पत्रकार समजंस्य बनाकर सौहार्दयपूर्ण वातावरण में एक परिवार की तरह रहे और आपसी विवादों व समस्याओं का निस्तारण में मिल बैठ कर करे तो न्यायालायों में जाने की जरूरत ही न पड़े। दोनों संगठन एक दूसरे के हितों की अनदेखी कर वेवजह आरोप-प्रत्यारोप न लगाये। श्रम विभाग पर वेजबोर्ड के संबंध में मा0 न्यायालयों के आदेशों का पालन कराने का दायित्व है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार की मंशा किसी को प्रताड़ित करने की नहीं है। न तो इन्स्पेक्टर राज चलाने की है। सरकार चाहती है कि औद्योगिक प्रतिष्ठान भी चले और सेवायोजित कर्मचारियों के हितों की रक्षा हो।
श्रममंत्री ने कहा कि दोनों संगठन विवादों के निस्तारण को अपनी दैनिक गतिविधियों में शामिल करे। विवाद की स्थिति पैदा ही न हो इसकी चिंता करे और शांतिपूर्ण माहौल में कार्य करे। मैं इसकी अपील करता हॅू कि मजीठिया वेजबोर्ड की सिफारिशों के अनुरूप ही सेवायोजक और कर्मचारी कार्य करे।
बैठक में मजीठिया वेजबोर्ड की सिफारिशों को प्रदेश में लागू कराने के लिए पत्रकार प्रतिनिधियों में मुदित माथुर, हसीम सिद्दिकी, योगेश कुमार गुप्ता, लोकेश त्रिपाठी तथा यू0एन0आई0 के त्यागी जी ने समाचार एजेंसियों पर पत्रकारों तथा गैर पत्रकार कार्मिकों का उत्पीड़न करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वेजबोर्ड द्वारा निर्धारित न्यूनतम मजदूरी को लागू नहीं किया जा रहा है तथा निर्धारित मानदेय मांगने पर कर्मचारियों व पत्रकारों का उत्पीड़न किया जा रहा है। श्रम विभाग के अधिकारियों द्वारा भी समाचार एजेंसियों का निरीक्षण नहीं किया जाता। उन्होंने मांग की कर्मचारियों को वेतन चेक के माध्यम से दिया जाये। समाचार एजेंसियों की श्रेणी बद्धता की जाये तथा पत्रकारों के वादों का शीघ्र निपटारा कराया जाये।
इसी प्रकार से समाचार एजेंसियों के प्रतिनिधियों में हिन्दुस्तान टाइम्स के राकेश शर्मा ने कहा कि मजीठिया वेजबोर्ड की आड़ में पत्रकारों एवं कर्मचारियों ने एजेंसियों पर वेबुनियाद आरोप लगायेे है। इस समय अखबार छापने वाली कम्पनियां मजीठिया वेजबोर्ड के कारण नहीं चल पा रही और वित्तीय संकट से गुजर रही है। बैठक में प्रमुख सचिव श्रम एवं सेवायोजन सुरेश चन्द्रा, विशेष सचिव सूचना, अपर श्रमायुक्त व उपश्रमायुक्त के साथ समाचार एजेंसियों और पत्रकारों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। 


Popular posts
राज्यमंत्री बलदेव सिंह ने मुख्य अभियंता शारदा सहायक व मुख्य अभियंता सज्जा के कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया
Image
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने ज्योति पर्व ‘‘दीपावली’’ पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई दी 
Image
प्रशासक ग्रेटर शारदा सहायक समादेश क्षेत्र विकास प्राधिकारी/परियोजना के मौजूदा नम्बर बदले गए 
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
डीजीपी ने महिलाओं/बच्चियों के साथ घटित होने वाले अपराधों की रोकथाम के लिए अभियान ‘‘मिशन शक्ति‘‘ हेतु निर्देश जारी किये 
Image