सेना का अपमान और आतंकियों का सम्मान करने वाले को देश की जनता करेगी बेनकाब - हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव
वेब वार्ता/अजय कुमार वर्मा

लखनऊ 13 मार्च 2019। विपक्षी दल पहले सेना, शहीदों व उनके परिजनों का अपमान करते हैं, तथा कुछ नेता अपने बयानों से आतंकवादी ताकतो को बल देते है फिर आतंकवादियों के प्रति सम्मान सूचक संबोधन कर शहीदों का अपमान करते है। उक्त वक्तव्य आज एक प्रेस वार्ता में भाजपा प्रवक्ता हरीश चंद्र श्रीवास्तव ने कहा। 

प्रवक्ता हरिश्चन्द्र ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार भी नहीं सोचा कि उनके द्वारा भारतीय सेना से सर्जिकल स्ट्राइक व एयर स्ट्राइक का सबूत मांगने और सीआरपीएफ के 44 बहादुर जवानों को शहादत के लिए जिम्मेदार अपराधी दुर्दांत आतंकवादी अजहर मसूद को सम्मानजनक संबोधन कर शहीदों के परिजनों की घाव पर नमक छिड़कने का कार्य करते है। सपा के नेता भी दुनिया के सर्वश्रेष्ठ वायुसैनिकों द्वारा आतंकवाद के संरक्षक पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों के शिविरों पर किये गये एयर स्ट्राइक पर सवाल उठाते हैं। अब ये लोग किस मुंह से शहीदों की बात करते हैं?

उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले में शहीद सीआरपीएफ जवान विजय कुमार मौर्य की पत्नी ने विपक्षी दलों के नेताओं द्वारा आतंकवादियों को सम्मानजनक संबोधन से हुई अपनी पीड़ा उजागर की है। विपक्ष के नेताओं में देश पर जान लुटा देने वाले इन जवानों के परिजनों के प्रति न तो कोई संवेदना है और न ही हमारी सेना व अद्धसैन्य बलों के प्रति सम्मान। एक ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसा नेतृत्व है, जो आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस अपनाते हुये सीमा पार आतंकियों को नष्ट करने का साहस रखते हैं। दूसरी ओर विपक्ष के नेता हैं, जो ओछी राजनीति करते हुये विभाजनकारी व अलगवावादी ताकतों को शह दे रहे हैं और आतंकवादियों के लिए सम्मानजनक संबोधन कर आतंकवादियों को मजबूती प्रदान करते है। 

उन्होंने कहा कि देश की जनता इनके मंसूबों को कामयाब नहीं होने देगी और समाज व देश की एकता व अखंडता के लिये इनकी कारस्तानियों को उजागर करेगी। जनता बतायेगी कि किस तरह कांग्रेस व कुछ दलों आतंकवादियों के प्रति लचर रूख रखते है।

प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि जनता यह भी जानना है कि बाटला हाउस मुठभेड़ में मारे गये आतंकवादी की मौत पर आंसू बहाकर शहीद इंस्पेक्टर मोहन शर्मा की शहादत का अपमान करने वाली कांग्रेस की तत्कालीन अध्यक्षा सोनिया गांधी के नेतृत्व में विपक्ष के नेताओं की भूमिका क्या थी ? और कांग्रेस राज में किस तरह धड़ल्ले से आतंकवादियों को छोड़ा गया था। सपा व बसपा गठबंधन को भी बेनकाब करते हुए जनता को इस सच से रूबरू कराया जाएगा कि अखिलेश यादव की सरकार ने आतंकवादियों को जेल से छोड़ने का आदेश जारी किया था, जिस पर उच्च न्यायालय ने फटकार लगाते हुये ये आदेश रद्द कर दिया था।

Popular posts
प्रियंका ने वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा ग्राम विकास अधिकारी और दारोगा भर्ती के अभ्यर्थियों से बातचीत की
Image
राज्यपाल ने प्रगति इंडस्ट्रीज, इंडस्ट्रीयल स्टेट स्थित कांच की फैक्ट्री का निरीक्षण किया
Image
गन्ना किसान फोन पर ही अपनी शिकायत दर्ज कराकर उसका समाधान पा सकेंगे - आयुक्त, संजय आर0 भूसरेड्डी
शारदीय नवरात्र पर नारी सुरक्षा एवं स्वावलम्बन हेतु विविध कार्यक्रमों का आयोजन प्रस्तावित - डाॅ0 दिनेश शर्मा
तालेत्तुताई सोलर प्रोजेक्ट फाइव प्रा0 लि0 को ग्राम खेड़ा एवं शहजादनगर तहसील बिल्सी, जनपद बदायूँ में 12.50 एकड़ से अधिक भूमि क्रय