नोएडा पुलिस की बड़ी कार्रवाई, रंगदारी मांगने वाला इंस्पेक्टर अपने ही थाने में 3 पत्रकार सहित गिरफ्तार
-थाना प्रभारी जयवीर सिंह फरार हो गए हैं

-एसएचओ मनोज पंत को एसएसपी ने सस्पेंड किया 

 


लखनऊ (वेबवार्ता/अजय कुमार वर्मा)। दिल्ली से सटे नोएडा में एसएसपी वैभव कृष्णा के निर्देश पर पुलिस ने अपने विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए एक एसएचओ मनोज पंत और तीन कथित पत्रकारों को रंगदारी मांगने के मामले में गिरफ्तार किया है। इनके अलावा एक अन्य आरोपी इंस्पेक्टर फरार है। इस गिरफ्तारी के बाद आठ लाख रुपए की राशि रंगदारी के रूप में वसूलने के मामले का पर्दाफाश हुआ है।

पुलिस ने ये गिरफ्तारियां ऑपरेशन 'ट्रैप' के अंतर्गत की थीं। आरोपियों में सेक्टर 20 के एसएचओ मनोज पंत, कथित पत्रकार सुशील पंडित, उदित गोयल और रमन ठाकुर हैं। इन सबको सेक्टर 20 के एसएचओ के दफ्तर में 8 लाख रुपए लेते हुए रंगेहाथ पकड़ा गया। आरोपी एक कॉल सेंटर मालिक से उसका नाम एक एफआईआर से हटाने की एवज में पैसे वसूल रहे थे। एफआईआर नवंबर 2018 में दर्ज की गई थी।

 

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वैभव कृष्णा ने आज बुधवार को बताया, ‘‘सेक्टर 20 पुलिस थाना प्रभारी मनोज कुमार पंत और पत्रकारों सुशील पंडित, उदित गोयल और रमन ठाकुर को कल गिरफ्तार किया गया।’’ 

उन्होंने बताया कि चारों को सेक्टर 20 पुलिस थाने में आठ लाख रुपए की रिश्वत लेते या जबरन वसूली करते रंगे हाथ पकड़ा गया। कृष्णा ने कहा, कि एसएसपी ने बताया कि एक पत्रकार के पास से मर्सिडीज वर को भी जब्त किया गया है. उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया यह कार भी किसी आपराधिक गतिविधि से जुड़ी प्रतीत हो रही है. एक पत्रकार के पास से .32 बोर की पिस्तौल मिली है, साथ ही रंगदारी के करीब आठ लाख रुपये भी जब्त हुए हैं. वे एक कॉल सेंटर मालिक से नवंबर 2018 में दर्ज हुई एक प्राथमिकी से उसका नाम हटाने के एवज में धन वसूल रहे थे।

कप्तान ने कहा, ‘‘कुल आठ लाख रुपए जब्त किए गए हैं और चारों को गिरफ्तार कर लिया गया है।’’ अधिकारी ने बताया कि सेक्टर 20 पुलिस थाने के अतिरिक्त थाना प्रभारी जयवीर सिंह को मामले में कथित संलिप्तता के आरोप में निलंबित कर दिया गया है।


बताते चले कि लखनऊ में हज़रतगंज थाने कि तुलसी चौकी में तैनाती के दौरान भी इंस्पेक्टर (तत्कालीन दरोगा) मनोज पंत कि गतिविधिया भी काफी विवादित रही थी।